बामणी के पश्चिमी हिस्से में पेयजल की समस्या, मंहगी दरों पर खरीद कर पी रहे हैं पानी


Kitnod_news_update

किटनोद।
ग्राम पंचायत किटनोद के भीलों की ढाणी बामणी के पश्चिमी हिस्से में आज तक पेयजल की आपूर्ति नहीं होने के कारण ग्रामीणों को परेशानी का सामना कर पड़ रहा है। गांव में पेयजल की उपलब्धता होने के बाद भी भीलों की ढाणियों में बने पानी के जल स्रोतों में निर्माण के बाद अभी तक जलापूर्ति नहीं होने ग्रामीणों को मंहगी दरों पर खरीद कर पानी पीने से ग्रामीणों को आर्थिक परेशानी होती है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव में पानी के लिए संबंधित विभाग द्वारा जीएलआर का निर्माण करवाया गया, लेकिन विभागीय अधिकारियों की लापरवाही के कारण उदासीनता के आंसू बहा रही है। ग्रामीणों ने बताया कि जीएलआर पिछले 7-8 वर्षों से बंद पड़ी है। गांव में कोई पानी की अन्य व्यवस्था नहीं होने के कारण लोगों ने अपने घरों के आगे पेयजल के लिए टांकों का निर्माण किया गया है जो मानसून के मौसम में पानी आता है, उससे वर्ष पर्यंत प्यास बुझाते हैं।इस तस्वीरों में आप देख सकते हैं मौजूदा स्थिति। यह तीनों तस्वीरें अलग स्थानों की है और तीनों में अभी जलापूर्ति नहीं हुई है।

इनका कहना है
हमें पानी पीने के लिए महंगी दरों में खरीद कर निजी उपयोग में लाया जाता है। करीब 7-8 वर्षों निमार्णाधीन तीनों जीएलआर में अभी तक पेयजल की आपूर्ति नहीं की गई है।
-स्थानीय ग्रामीण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed