खाकी में इंसानियत, कोरोना के खिलाफ सुरीली खाकी


रिपोर्ट- विरमदेव देवासी

जैसलमेर: कैंसर जैसी भयावह बीमारी से जंग जीत चुकी राजस्थान पुलिस में महिला कांस्टेबल सुनीता चौधरी कोरोना को लेकर संगीत के माध्यम से जनता जागरूक किया। उनके अनुसार संगीत सुनने व गुनगुनाने से व्यक्ति मानसिक तनाव से दूर हो जाता है तथा हर समय सकारात्मक सोच व ऊर्जा जाग्रत होती है। पीङि़त और बीमार व्यक्ति के लिए संगीत सबसे बड़ी औषधि है। जब उन्हें कैंसर जैसी घातक बीमारी ने जकड़ लिया तो वह उदास और चिन्तित रहने लगी। उनके गुरु रजनीकांत शर्मा ने उन्हें संगीत सीखने की सलाह दी। जब उन्होंने संगीत को अपनाया तो मन को शान्ति व सुकून मिलना शुरु हुआ। उन्होंने हारमोनियम बजाना सीखा, जैसा आया वैसा गाना शुरू किया। लोगों की प्रंशसा से हौसला और बढ़ा। धीरे धीरे उनका ध्यान बीमारी से ज्यादा संगीत में लग गया। आज में संगीत की वजह से वह स्वस्थ और खुश है। उन्होंने बताया कि संगीत से उनकी मानसिक सृदृढ़ता, सहनशीलता और एकाग्रता बढीं है। इसके साथ ही कठिन परिस्थिति से लङने का संबल मिला है। आत्मशान्ति के लिए संगीत सबसे बड़ा गुरु है। सुनीता चौधरी के संगीत की प्रस्तुतियां स्वतंत्रता दिवस पर दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed